35.6 C
Dehradun
Wednesday, May 22, 2024
Homeउत्तराखंडबच्चा हो या बड़ा, हाथ-पांव टेढ़े हैं तो घबराएं नहीं, देहरादून में...

बच्चा हो या बड़ा, हाथ-पांव टेढ़े हैं तो घबराएं नहीं, देहरादून में डॉक्टर B.K.S संजय से मिलें, ऑपरेशन से ठीक हो जाएंगे

 

*विकलांगता- पौधे सीधे किए जा सकते हैं, पेड़ नहीं

देहरादून। अगर आपकी नजर में कोई बच्चा या बड़ा ऐसा है जिसके हाथ या पाव टेढ़े हैं और वह इलाज की उम्मीद छोड़ चुका है। तो ऐसे परिवार को आप देहरादून के  पदमश्री डॉक्टर बीकेएस संजय के बारे में जरूर बताएं। डॉक्टर संजय अब तक काफी संख्या में ऐसे लोगों के जटिल ऑपरेशन कर चुके हैं और उन्हें अपने पैरों पर चलने में सक्षम बना चुके हैं। 

अन्तर्राष्ट्रीय विकलांगता दिवस के अवसर पर देहरादून के जाखन स्थित संजय ऑर्थाेपीडिक, स्पाइन एवं मैटरनिटी सेंटर और सेवा सोसाइटी की ओर से आयोजित जन जागरूकता व्याख्यान में डॉक्टर बीकेएस संजय और उनके सुपुत्र डॉ. गौरव संजय ने महत्वपूर्ण जानकारी दी।

उन्होंने कई अलग-अलग वीडियो के माध्यम से उन मरीजों को भी दिखाया जो पहले चलने फिरने में अक्षम थे या उनके हाथ-पांव अनुवांशिक रूप से या किसी दुर्घटना की वजह से सामान्य रूप में नहीं थे।

डॉक्टर संजय ने बताया कि खुद पता चलने पर ऐसे मरीजों का उत्साहवर्धन करते हैं जो ठीक होने की उम्मीद छोड़ देते हैं। इसका परिणाम हमेशा अच्छा रहा है अब तक काफी संख्या में वह ऐसे मरीजों को ठीक कर चुके हैं। 

उन्होंनेे कहा अंतर्राष्ट्रीय विकलांगता दिवस पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा विकलांग व्यक्तियों को विकलांगता के मुद्दों की समझ को बढ़ावा देने और विकलांग व्यक्तियों की गरिमा, अधिकारों और कल्याण को बढ़ाने के लिए समर्थन जुटाने के लिए मनाया जाता है।

डॉ. गौरव संजय ने कहा बचपन में पोलियो, सेरेब्रल पाल्सी (सीपी) और क्लब फुट भारत में विकलांगता के मुख्य कारण हैं। भारत 27 मार्च 2014 से पोलियो मुक्त है। यानी उसके बाद से पोलियो के कोई नए मामले सामने नहीं आ रहे हैं लेकिन पोलियो के लाखों पुराने मामले हैं जो रोगियों और राष्ट्र के लिए बड़ी सामाजिक और अन्य समस्याएं पैदा कर रहे हैं। 

एक सवाल केेे जवाब में डॉक्टर संजय ने कहा विकलांगता जितने ज्यादा समय रहती है उसका प्रभाव आनुपातिक रूप से बढ़ता रहता है। सरकारी, गैर-सरकारी संगठनों और समाज को किसी भी प्रकार की विकलांगता को रोकने का प्रयास करना चाहिए। किसी भी कारण से हुई विकृति और विकलांगता को जल्द से जल्द ठीक किया जाना चाहिए।

इसलिए हम लोग हमेशा रोगी को विकृति और रोगी के परिवार के सदस्यों को सलाह देते हैं कि यदि सर्जरी की आवश्यकता है, तो इसे जल्द से जल्द किया जाना चाहिए क्योंकि पौधे सीधे किए जा सकते हैं, पेड़ नहीं। इस अवसर पर कार्यक्रम में सेंटर के स्टाफ एवं सोसाइटी से जुड़े कई गणमान्य लोग उपस्थित रहे। 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments