26.9 C
Dehradun
Sunday, May 26, 2024
Homeउत्तराखंडमुख्यमंत्री बोले, कुछ कर गुजरने की ललक हो तो नहीं होता कोई...

मुख्यमंत्री बोले, कुछ कर गुजरने की ललक हो तो नहीं होता कोई काम कठिन

 

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अपनी मजबूत जिजीविषा के साथ विभिन्न क्षेत्रों में समाज को दिशा देने वाले इतिहास बनाने का कार्य करते हैं। ऐसे लोगों का सम्मान प्रेरणा का भी कार्य करता हैं। यदि व्यक्ति में कुछ कर गुजरने की ललक हो तो कोई भी कार्य कठिन नहीं होता। ताकतवर व्यक्ति भी मजबूत इच्छा शक्ति के बल पर ही हर कार्य कर सकता है।

उन्होंने कहा कि समाज को प्रेरणा देने वालों को समाज की दुआएं भी मिलती है। समाज को दिशा देने वाले का सम्मान पूरे समाज का सम्मान होता है। यह उनकी ऊर्जा शक्ति के साथ समाज के लिये बेहतर कार्य करने की भावना का भी सम्मान होता है।

रविवार को सर्वे चौक स्थित आई.आर.डी.ए. सभागार में यूथ आईकॉन सम्मान समारोह में स्वास्थ्य, शिक्षा, महिला सशक्तिकरण, उद्यमिता, खेल एवं समाज सेवा के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के जरिये समाज को दिशा देने वालों को सम्मानित करते हुए मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि सम्मानित होने से हमारी समाज के प्रति जिम्मेदारी और बढ़ जाती है।

सम्मानित होने वाले वास्तव में समाज के सच्चे लीडर होते है, जो सबको दिशा व रास्ता दिखाने का कार्य करते है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यूथ वह होता है जो धरती को आकाश से जोड़ने तथा रेत से भी तेल निकालने जैसे असंभव कार्य को संभव बनाने का प्रयास करता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने कहा है कि उठो जागो और तब तक नहीं रूको जब तक कि लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए। मनुष्य ऊर्जा शक्ति का भण्डार है। वह जो करना चाहे, लक्ष्य तय कर प्राप्त कर सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम जीवन में तभी सफल हो सकते है जब हमारे संकल्प में विकल्प न हो। संकल्प में विकल्प आने से हम सफलता की राह से भटक सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे युवा 21वीं सदी में भारत के सपनों को पूरा करने का कार्य करेंगे।

मुख्यमंत्री ने राज्य के समग्र विकास हेतु किये जा रहे प्रयासों का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रदेश के समग्र विकास में हम सब सहभागी एवं सहयोगी है। प्रधानमंत्री के विजन के अनुरूप 2025 में उत्तराखण्ड देश के अग्रणी राज्यों में शामिल हो इसके लिये हम निरन्तर प्रयासरत है।

राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये होम स्टे योजना को बढ़ावा दिया जा रहा है। पर्यटन स्वरोजगार योजनाओं के अंतर्गत सब्सिडी बढ़ाई गई है। हवाई सेवाओं का विस्तार किया जा रहा है। इसके लिए एविएशन टर्वो फ्यूल पर 18 प्रतिशत कर छूट दी गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन एवं केन्द्र सरकार के सहयोग से राज्य में ऐसे बहुत से काम हुए हैं, जो पहले नामुमकिन लग रहे थे। मोदी जी ने पहाड़ पर रेल पहुचाने के सपने को साकार किया है।

आज ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना तथा सामरिक दृष्टि एवं भौगोलिक दृष्टि से महत्वपूर्ण टनकपुर-बागेश्वर रेल परियोजना पर तेजी से काम हो रहा है। इसी प्रकार चार धाम ऑल वेदर रोड, भारत माला प्रोजेक्ट पर भी तीव्र गति से काम किया जा रहा है।

चार धाम यात्रा उत्तराखण्ड के लिए लाइफ लाईन है और ये परियोजनाएं जहां चारधाम यात्रा को सुगम बनाएंगी, पर्यटन को बढ़ावा देगी वहीं हमारी अर्थव्यवस्था में क्रांतिकारी परिवर्तन भी लाएगी। दिल्ली देहरादून एक्सप्रेस वे देहरादून से दिल्ली की दूरी को और कम करने वाला है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम का कायाकल्प किया गया है। अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो रहा है, केदारनाथ पुनर्निर्माण का कार्य अंतिम चरण मे हैं।

प्रधानमंत्री द्वारा यहां 400 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया गया है। बद्रीनाथ धाम के सौन्दर्यकरण के लिये 250 करोड़ की योजना बनायी गई है।

इस प्रकार देश में पुरातन संस्कृति के उत्थान का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश के निर्माण में हम सबकी अपनी भूमिका है। इस दिशा में भी हम सबको सहयोगी बनना होगा। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जिन्हें सम्मानित किया उनमें समाज सेवा के क्षेत्र में जोगेंद्र सिंह पुंडीर, महिला सशक्तिकरण की पहचान ट्रक ड्राईवर श्रीमती योगिता रघुवंशी, शिक्षा के क्षेत्र में युवाओं को दिशा देने वाले पटना वाले खान सर, उद्यमी सुनील वशिष्ठ, वैज्ञानिक श्याम चौरसिया, साहित्य एवं लोक संस्कृति के संवाहक नंद किशोर, हटवाल चिकित्सक डॉ. राजा लहरी, खिलाड़ी निर्मला देवी, विकलांग लोक गायक वीरू जोशी, संस्कृति एवं लोक परम्परा गायक नीरजा उप्रेती, ज्योति उप्रेती, एडवोकेट  के जैन, समाजसेवी अनूप नौटियाल, श्रीमती सुनीता पाण्डे, मुनीन्द्र खण्डूरी, संगीतकार विशाल मिश्रा, पत्रकार अनुपमा खन्ना, संतोष चमोली, अफजाल अहमद आदि प्रमुख थे। 

इस अवसर पर यूथ आईकान के संरक्षक डॉ. वी.के.जैन, अध्यक्ष डॉ. महेश कुड़ियाल, निदेशक दिनेश बर्थवाल, संस्थापक निदेशक शशिभूषण मैठाणी पारस, एक्ज्यूकेटिव मेम्बर अतुल बरतरिया आदि उपस्थित थे। 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments